Sunday, 30 June 2019

वेब पब्लिशिंग क्या है? होस्टिंग और पब्लिशिंग में क्या अंतर है? Web Publishing in Hindi



web publishing in hindi

वेब डेवलपमेंट के क्षेत्र में कई प्रकार के terms और शब्दों का उपयोग किया जाता है। इनमे से एक शब्द है web publishing, जिसके बारे में कई लोगों को नही पता होता की वेब पब्लिशिंग क्या होता है? या web publisher किसे कहते हैं? 


कुछ लोग वेब होस्टिंग और पब्लिशिंग को एक ही समझते हैं जबकि ये दोनों पूरी तरह से अलग हैं। आज हम इसी के बारे में विस्तार से समझाने वाले हैं।

वेब पब्लिशिंग क्या है? What is Web Publishing in Hindi?

आसान शब्दों में अगर कहें तो किसी जानकारी या कंटेंट को इन्टरनेट पर प्रकाशित (publish) करना वेब पब्लिशिंग या online publishing कहलाता है।

इसमें कुछ इस प्रकार के काम किये जाते हैं:
  • वेबसाइट बनाना और अपलोड करना।
  • किसी वेब पेज को अपडेट करना।
  • ब्लॉग पोस्ट पब्लिश करना आदि।
पब्लिश होने वाले कंटेंट text, image, videos, pdf जैसे कई अलग-अलग प्रकार के फॉर्मेट में हो सकते हैं। यहाँ पर ध्यान देने वाली बात है की सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, ट्विटर आदि पर content publish करना web publishing नही कहलाता है।

यह भी पढ़ें:

Web Publishing के लिए किन-किन चीजों की जरुरत पड़ती है?

वेबसाइट पब्लिशिंग के लिए निचे दिए गये कुछ चीजों की आवश्यकता पड़ती है:
  • Web publishing tools
  • इंटरनेट कनेक्शन
  • डोमेन नेम 
  • वेब होस्टिंग 
चलिए इन तीनो को थोड़ा विस्तार से समझने की कोशिश करते हैं।

Web publishing tools: 
इस काम को करने के लिए आपको कुछ टूल्स या software की आवश्यकता पड़ती है। ये टूल्स कई प्रकार के हो सकते हैं, जैसे यदि आप अपनी वेबसाइट खुद डिजाईन कर रहे हैं तो आपको कुछ design tools, code editor, image editor आदि की जरुरत पड़ेगी। यदि आप ब्लॉग लिख रहे हैं तो किसी online interface जैसे wordpress, blogger आदि का उपयोग कर सकते हैं।

इन्टरनेट कनेक्शन:
आप वेबसाइट डिजाइनिंग और कोडिंग जैसे कुछ काम offline रहकर भी कर सकते हैं लेकिन सारी चीजों को इंटरनेट पर अपलोड करने के लिए जाहिर सी बात है आपको इन्टरनेट कनेक्शन की जरुरत पड़ेगी ही। इन्टरनेट के जरिये ही आप अपने वेबसाइट के कंटेंट को वेब सर्वर पर अपलोड कर पाएंगे।

डोमेन नेम:
आपके द्वारा बनाये गये वेबसाइट या ब्लॉग के कंटेंट पूरे world wide में कोई भी देख सकता है लेकिन वो आपके वेबसाइट तक पहुंचेगा कैसे?

जाहिर सी बात है इसके लिए एक वेब एड्रेस की जरुरत पड़ेगी जिसके जरिये आपके वेबसाइट तक पहुंचा जा सकेगा। इसी वेब एड्रेस को ही डोमेन नाम कहा जाता है जैसे हमारी वेबसाइट का डोमेन नाम webinhindi.com है ठीक उसी तरह आपको भी एक डोमेन खरीदना होगा।

आप .com, .in, .net, .online, .co.in जैसे किसी भी extension के साथ अपने मनचाहे नाम से डोमेन ले सकते हैं बशर्ते उस डोमेन के साथ कोई दूसरी वेबसाइट पहले से बनी न हो। डोमेन के लिए आपको सालाना कुछ पैसे डोमेन रजिस्ट्रार को देने पड़ेंगे।

डोमेन के बारे में और अधिक जानकारी के लिए यह पढ़ें: डोमेन नेम क्या है? What is Domain Name in Hindi?

वेब होस्टिंग: 
वेबसाइट बना लेने के बाद आपको इसे इन्टरनेट पर उपलब्ध कराने के लिए वेबसाइट के कंटेट को किसी वेब सर्वर पर अपलोड करना होगा।

वेब सर्वर प्राप्त करने के लिए आपको किसी अच्छी वेब होस्टिंग कंपनी को चुनना होगा और अपने जरुरत के अनुसार storage space और अन्य सुविधाओं को ध्यान में रख कर एक web hosting package खरीदना होगा जिसके लिए आपको मासिक या सालाना तौर पर कुछ पैसे देने पड़ेंगे।

वेब होस्टिंग सर्विस लेने के बाद आपको एक इंटरफ़ेस मिल जाता है जिसके जरिये आप अपने कंटेंट्स जैसे article, images, videos आदि को आसानी से अपलोड कर पायेंगे। इसके बाद आपकी साईट या ब्लॉग इन्टरनेट पर उपलब्ध हो जाएगी।

वेब होस्टिंग को विस्तार से समझने के लिए यह पढ़ें: वेब होस्टिंग क्या है? यह कैसे काम करता है? (What is Web Hosting in Hindi)


वेब होस्टिंग और वेब पब्लिशिंग में क्या अंतर है? (Web hosting Vs. Web Publishing in Hindi)

कई लोग वेब होस्टिंग और वेब पब्लिशिंग इन terms को लेकर confused रहते हैं की आखिर इनके बीच अंतर क्या होता है। चलिए इस confusion को दूर करते हैं:
  • वेब होस्टिंग आमतौर पर एक होस्टिंग सर्विस प्रदान करने वाली कंपनी को संदर्भित करता है जो विभिन्न प्रकार की वेबसाइटों के लिए सर्वर में होस्टिंग के लिए स्थान (hosting space) प्रदान करता है।
  • वेब पब्लिशिंग एक व्यक्ति या आर्गेनाइजेशन को संदर्भित करता है जो वेबसाइट और वेब कंटेंट को डिज़ाइन करता है और फिर होस्टिंग सर्वर पर पब्लिश करता है।
  • वेब होस्टिंग कंटेंट को रखने के लिए सर्वर पर एक स्थान प्रदान करता है।
  • वेब पब्लिशिंग के अंतर्गत कई सारे काम आते हैं जैसे वेबसाइट को बनाना, अपडेट करना, पब्लिश करना, मेन्टेन करना आदि।
  • कई सारी कंपनियां अपने ग्राहकों को वेब होस्टिंग और पब्लिशिंग दोनों की सुविधाएँ प्रदान करती हैं वे अपने client से निर्देश लेकर वेबसाइट डिजाईन करते हैं और उस पर information update करते हैं।
  • कुछ कंपनियां सिर्फ होस्टिंग की सुविधा देती हैं और पब्लिशिंग का काम ग्राहक को खुद या किसी professional (web publisher) की मदद से करनी होती है।
होस्टिंग और पब्लिशिंग दोनों बिलकुल अलग-अलग हैं इसलिए इन्हें लेकर confusion नही होना चाहिए।

आपको वेब पब्लिशिंग के बारे में यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरुर बताएं।

नमस्कार, मैं विवेक, WebInHindi का founder हूँ। इस ब्लॉग से आप वेब डिजाईन, वेब डेवलपमेंट से जुड़े जानकारियां और tutorials प्राप्त कर सकते हैं। अगर आपको हमारा यह ब्लॉग पसंद आये तो आप हमें social media पर follow कर हमारा सहयोग कर सकते हैं|

इस Post से सम्बंधित किसी भी तरह का प्रश्न पूछने या सुझाव देने के लिए नीचे comment कीजिये.
EmoticonEmoticon

और पढ़ें: