Saturday, 22 December 2018

वेबसाइट क्या है? Static और Dynamic Website में क्या अंतर है?



website kya hai - what is website in Hindi
वेबसाइट क्या है? भले ही आज हम इस सवाल का जवाब ढूंढ रहे हों, लेकिन हम इस बात से इनकार नही कर सकते की हम हर दिन किसी न किसी रूप में वेबसाइट का उपयोग कर रहे हैं।

हम इन्टरनेट पर हर रोज फेसबुक जैसे सोशल मीडिया साइट्स पर समय बिताते हैं, किसी प्रकार की जानकारी चाहिए हो तो हम गूगल पर जाते हैं, और विडियो देखना हो तो उसके लिए Youtube तो मौजूद है ही।

ये सारी चीजें अलग-अलग प्रकार की वेबसाइट हैं और हम हर दिन अपने कंप्यूटर पर या मोबाइल पर कोई न कोई वेबसाइट उपयोग कर रहे होते हैं।

आज हम वेबसाइट के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे और जानेंगे की आखिर वेबसाइट होता क्या है? इसके क्या फायदे हैं? ये कितने प्रकार के होते हैं? static और dynamic site में क्या अंतर है? इसके अलावा जानेंगे की वेबसाइट कैसे बनाया जाता है।
वेबसाइट क्या है? What is Website in Hindi? वेबसाइट या साईट कई सारे web pages का एक collection होता है। एक वेबसाइट में कई सारे वेब पेज होते हैं और हर एक पेज में अलग-अलग प्रकार की जानकारियाँ होती है

web page दरअसल एक प्रकार का document होता है जिसपर टेक्स्ट, इमेज, विडियो आदि हो सकते हैं। ये सभी pages वेब सर्वर पर मौजूद होते हैं।

वेबसाइट के मुख्य पेज को होम पेज कहा जाता है जहाँ पर कई सारे लिंक दिए गये होते हैं जिनपर क्लिक करके हम इन web pages को ओपन कर सकते हैं।

हर वेबसाइट का एक unique वेब एड्रेस होता है जिसे URL कहा जाता है और उसी URL यानि एड्रेस के जरिये ही उस वेबसाइट तक पहुँचा जाता है।

जैसे हमारी वेबसाइट का एड्रेस webinhindi.com है और इसी एड्रेस के जरिये आप हमारी वेबसाइट को देख पा रहे हैं।

किसी भी वेबसाइट को ओपन करने के लिए एक प्रकार का सॉफ्टवेयर या एप्लीकेशन की जरूरत पड़ती है जिसे ब्राउज़र कहा जाता है। Chrome, Firefox, Opera, UC browser आदि ब्राउज़र के उदाहरण हैं।

यह भी पढ़ें:

Static वेब साईट और Dynamic वेबसाइट क्या हैं? दोनों में क्या अंतर है? वेबसाइट मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं:
  1. Static website
  2. Dynamic website
Static website क्या होता है? यह समझाने के लिए नीचे कुछ बिंदु दिए गये हैं:
  • यह simple HTML से कोडिंग करके बनाया जाता है।
  • इसे बनाना बहुत ही आसान है।
  • इसको बनाने में समय कम लगता है।
  • अगर लागत की बात करें तो यह बहुत ही सस्ता होता है।
  • यह किसी भी प्रकार के डेटाबेस से कनेक्ट नही होता।
  • इसके content static होते हैं यानी ये अपनेआप update नही होते।
  • साईट को update करने के लिए coding करना जरुरी है।
  • जब तक आप इसके कोड में changes नही करेंगे तब तक इसके कंटेंट में बदलाव नही होगा।
Static वेबसाइट का उदाहरण: ज्यादातर कॉलेज या स्कूल की वेबसाइट static होती है। लेकिन कुछ pages dynamic भी हो सकते हैं जैसे एडमिशन फॉर्म, कांटेक्ट फॉर्म आदि।

अब चलिए समझते हैं की Dynamic website क्या होता है:
  • इसे बनाने में समय अधिक लगता है।
  • लागत अधिक लगता है।
  • इसमें अधिक से अधिक फंक्शन जोड़े जा सकते हैं।
  • इसमें PHP, ASP.Net, JavaScript, Python आदि technologies का उपयोग किया जाता है।
  • वेबसाइट को डेटाबेस से कनेक्ट किया जाता है।
  • हर कंटेंट के लिए कोडिंग करनी नही पडती।
  • कंटेंट डेटाबेस में स्टोर रहता है और वहां से निकाल कर यूजर को दिखाया जाता है।
  • एडमिन के लिए एक अगल interface/पेज बनाया जाता है जहाँ से साईट आसानी से बिना कोड लिखे अपडेट किया जा सकता है।
Dynamic website का example: ऑनलाइन शौपिंग की साईट, सर्च इंजन, सोशल मीडिया, ऑनलाइन video streaming जैसी वेबसाइट dynamic होती है।

यह भी पढ़ें:
कोई वेबसाइट static है या dynamic कैसे पता लगायें?
ऊपर हमने static और dynamic website दोनों की पहचान बता दी है लेकिन इसके बावजूद किसी साईट को देख कर यह पता लगाना काफी मुश्किल होता है की वह स्टैटिक है या डायनामिक क्योंकि आजकल लगभग हर साईट में कुछ न कुछ dynamic content होते ही हैं।

इस काम के लिए आप builtwith या wappalyzer जैसे ब्राउज़र extension का उपयोग कर सकते हैं जो की साईट में उपयोग होने वाले technologies के बारे में आपको सटीक जानकारी दे सकते हैं।

वेबसाइट कितने प्रकार के होते हैं? (Website Categories) इन्टरनेट पर कई प्रकार के वेबसाइट मौजूद हैं और हम अपने जरुरत के हिसाब से उनका उपयोग करते हैं। हमने नीचे website categories की लिस्ट बनाने की कोशिश की है जिससे की आप समझ सकते हैं की वेबसाइट कितने प्रकार के हो सकते हैं:
  • न्यूज़-मैगज़ीन की वेबसाइट 
  • सोशल मीडिया 
  • ई-कॉमर्स 
  • ब्लॉग
  • पोर्टल
  • फोरम
  • विडियो स्ट्रीमिंग 
  • गेमिंग वेबसाइट
  • विकी साइट्स
  • जॉब बोर्ड
  • डायरेक्टरी
  • फोटोग्राफी 
  • स्कूल-कॉलेज की साईट
  • गवर्नमेंट वेबसाइट 
  • कूपन वेबसाइट
  • पॉडकास्ट वेबसाइट
  • पोर्टफोलियो वेबसाइट
  • बिज़नस वेबसाइट
  • पर्सनल वेबसाइट
जरुरी नही है की वेबसाइट के सिर्फ इतने ही प्रकार हों इन सबके अलावा और भी कई सारे categories हो सकते हैं। यदि आपको पता हो तो हमें नीचे कमेंट करके बता सकते हैं।

यह भी पढ़ें: डिजिटल मार्केटिंग क्या है? कितने प्रकार के होते हैं? 

वेब पेज, वेबसाइट, वेब पोर्टल और फोरम में क्या अंतर है? वेब पेज: World Wide Web (WWW) पर उपस्थित कोई एक single file वेबपेज कहलाता है। हम किसी वेबसाइट के एक सिंगल पेज को वेब पेज कह सकते हैं।

वेबसाइट: यह कई सारे web pages से मिलकर बना होता है।

वेब पोर्टल: यह वेबसाइट जैसी ही होती है लेकिन इसके कंटेंट प्राइवेट होते हैं और जब तक user name और password के जरिये login न किया जाय उसे देखा नही जा सकता। इसके लिए नेट बैंकिंग की साईट एक अच्छा उदाहरण है अगर आप इसका उपयोग करते हैं तो आपने देखा ही होगा उस वेबसाइट में बिना लॉग इन किये आप अपने खाते की जानकारी हासिल नही कर सकते हैं।

फोरम: यह एक पकार की वेबसाइट है जहाँ लोग अलग-अलग विषय पर चर्चा करते हैं करते हैं। यह सोशल मीडिया पर चैटिंग करने जैसा नही है, यहाँ पर आप अपने सवाल और परेशानियों को रख सकते हैं और फोरम के दुसरे सदस्य उन सवालों का जवाब विस्तार से देते हैं।

वेबसाइट के क्या फायदे हैं? इन्टरनेट पर आपकी पहचान बनाता है: 
आजकल हर किसी के पास इन्टरनेट की सुविधा है और लोग किसी चीज के बारे में जानने के लिए उसे सबसे पहले इन्टरनेट पर ही सर्च करना पसंद करते हैं क्योंकि यह बहुत आसान है और इन्टरनेट के पास जानकारियों का भंडार है। ऐसे में यदि आप अपनी या अपने बिज़नस की पहचान बनाना चाहते हैं तो अपनी जानकारियाँ आपको इन्टरनेट पर डालनी ही पड़ेंगीं और इसके लिए वेबसाइट एक बेहतर विकल्प है।

हमेशा 24/7 उपलब्ध रहता है:
एक वेबसाइट इन्टरनेट पर 24 घंटे और साल के पूरे दिन सक्रीय रहता है। ग्राहक आपको कभी भी, कहीं भी ढूंढ सकते हैं। यहां तक कि छुट्टी के समय भी आपकी वेबसाइट नए ग्राहकों को ढूंढने और आपके ब्रांड का प्रचार करने के लिए लगातार काम करता रहता है। यह उपयोगकर्ता को सुविधा प्रदान करता है जिससे वे अपने घर में आराम से बैठ कर आवश्यक जानकारी पा सकते हैं।

पूरी दुनिया में अपनी पहुँच बनायीं जा सकती है: 
चाहे आप उत्पाद बेचते हों या किसी प्रकार की सेवाएं प्रदान करते हों, एक ऑनलाइन वेबसाइट उन्हें बेचने का एक बेहतरीन स्थान है। आप केवल एक वेबसाइट के जरिए उन ग्राहकों तक पहुंच सकते हैं जो किसी अन्य शहर या देश में हैं। हमारे व्यस्त जीवन शैली में ऑनलाइन ब्राउज़ करना ज्यादा सुविधाजनक है - अब वे दिन चले गये जब हम दुकानों में प्रोडक्ट की जांच करने और खरीदने में घंटों खर्च किया करते थे। एक वेबसाइट इस प्रोसेस को कई गुना तेज कर देता है।

पैसे की बचत होती है:
क्या आपने कभी प्रिंट मीडिया, रेडियो, टेलीविजन या अन्य माध्यमों से अपने व्यापार का विज्ञापन किया है? अगर हाँ तो आपको पता होगा की यह बहुत महंगा है, लेकिन किसी व्यापार को बढ़ावा देने के लिए विज्ञापन में निवेश करना आवश्यक है, लेकिन इसमें बहुत पैसा लगता है और छोटे व्यापारियों के लिए लगभग नामुमकिन जैसा है। लेकिन एक वेबसाइट होने से आपकी कंपनी को कम खर्च में अधिक बढ़ावा मिलेगा।

विज्ञापन और मार्केटिंग का बेहतरीन साधन है:
जब विज्ञापन और मार्केटिंग की बात आती है तो इस काम में भी एक वेबसाइट बखूबी आपकी मदद करता है। इंटरनेट के माध्यम से अपने उत्पादों या सेवाओं का विज्ञापन करने के कई सारे तरीके हैं। Google AdWords जैसे टूल या Facebook Ads किसी पारंपरिक ऑफ़लाइन विज्ञापन की तुलना में अधिक सटीकता और विश्वसनीयता के साथ काम करते हैं। इसके अलावा search engine optimization (SEO) की सहायता से सर्च इंजन पर आपकी वेबसाइट की रैंकिंग को बढ़ावा मिलता है जिससे साईट पर अधिक से अधिक लोग पहुँच पाते हैं।

लोगों को आपकी जानकारी देता है:
एक बिज़नस वेबसाइट आपकी कंपनी और सेवाओं के बारे में आपके ग्राहकों को सटीक जानकारी प्रदान करने के लिए एक बेहतरीन विकल्प है। कुछ कम्पनी अपनी साईट पर केवल बुनियादी जानकारियाँ, पता और फोन नंबर डालते हैं। जबकि कई लोग testimonial, तस्वीरें, विडियो और अन्य विस्तृत जानकारियाँ जोड़ते हैं, जो की आपकी कंपनी के प्रति लोगों के अंदर एक विश्वास पैदा करती है। एक अच्छी तरह से डिज़ाइन की गई वेबसाइट उपयोगकर्ता को उस उत्पाद या सेवा की जानकारी बड़ी आसानी से उपलब्ध कराता है। इसके अलावा इन जानकारियों को समय के साथ पूरी तरह से updated रखना बहुत ही आसान है।

अपने Skill set को पूरी दुनिया को दिखाने में मदद करता है: 
चाहे आप किसी भी प्रकार के उद्योग में हों, एक वेबसाइट आपके काम को प्रदर्शित करने का एक शानदार तरीका है। आप online portfolio, image gallery और customer feedback का बखूबी उपयोग करके पूरी दुनिया में अपनी कार्य कुशलता को साबित कर सकते हैं। आप दिखा सकते हैं कि आपका व्यवसाय कितना बेहतर है और आपके ग्राहक आपके काम से कितने संतुष्ट हैं।

बिजनेस के लिए ग्राहक बढाने में सहायता करता है:
आपने देखा होगा की कई लोगों का व्यवसाय स्थानीय स्तर पर बहुत लोकप्रियता होता है, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की यदि उनके बारे में शहर के बाहर संभावित ग्राहकों को पता चले तो उन्हें कितना ज्यादा फायदा होगा? और यह काम एक वेबसाइट बखूबी कर सकता है। यह न सिर्फ आपके शहर के बाहर, बल्कि दुनिया भर में अधिक से अधिक ग्राहक बनाने में आपकी मदद कर सकती है। यह आपके व्यवसाय को विश्व स्तरीय बना सकता है। एक वेबसाइट के साथ आपका व्यवसाय दुनिया भर में दिखाई देगा।

ग्राहकों से बेहतर सम्बन्ध बनाने में मदद करता है:
अपने व्यवसाय को ऑनलाइन लेकर आने का एक अन्य कारण यह है कि आप कहीं भी और कभी भी अपने ग्राहकों से बातचीत कर सकते हैं। अपने ग्राहकों से जुड़े रहने के लिए आप न्यूज़ अपडेट, लाइव चैट, ईमेल मेसेज या कमेंट सिस्टम का उपयोग कर सकते हैं। वहीँ ग्राहक आपके प्रोडक्ट और सेवाओं का फीडबैक आपके वेबसाइट पर ही दे सकता है जिससे की आप किसी भी पल उनकी समस्याओं को सुलझाने और सलाह देने के लिए उपलब्ध रहेंगे।

यह भी पढ़ें: डिजिटल मार्केटिंग क्या है? कितने प्रकार के होते हैं?

वेबसाइट कैसे बनाया जाता है?
वेबसाइट बनाने के कई सारे तरीके हैं, आप कौनसा method उपयोग में लेंगे यह निर्भर करता है की आप किस तरह का वेबसाइट बना रहे हैं। कुछ तरीके में आपको coding करनी पड़ती है तो कुछ ऐसे भी method होते हैं जहाँ आप बिना कोई कोड लिखे कुछ टूल्स की मदद से वेबसाइट तैयार कर सकते हैं।

चलिए इन तरीकों के बारे में बात करते हैं:

1. खुद से कोडिंग करके वेबसाइट बनाना: इस तरीके में आपको हर एक चीज खुद से बनानी होगी, जाहिर सी बात है इसकेलिए आपको HTML, CSS, Javascript, PHP आदि में coding करना सीखना पड़ेगा। इस तरीके से यदि साईट तैयार किया जाय तो इसमें काफी समय लग सकता है। लेकिन इसमें फायदा यह है आप हर एक चीज
अपनी पसंद के अनुसार बना सकते हैं और आपके वेबसाइट के हर एक element पर आपका control रहेगा।

2. Themes और CMS के जरिये वेबसाइट बनाना: CMS यानि Content Management System जैसे Wordpress, Joomla, Drupal आदि का उपयोग करना पहले तरीके के मुकाबले काफी आसान है। इसमें आपको कोड लिखने की जरुरत नही पड़ती बस CMS या framework को सर्वर पर install करना होता है और फिर अपनी मनपसंद theme चुनकर साईट तैयार कर सकते हैं। हाँ यदि आप और अधिक customization चाहते तो इसके लिए आप कोड एडिट भी कर सकते हैं।

3. Website builder से वेबसाइट बनाना: इन्टरनेट पर आपको ऐसे कई सारे टूल्स मिल जायेंगे जो आपके काम को कई गुना आसान बना देते हैं। जैसे Wix, Weebly, Squarespace आदि। कुछ वेबसाइट बिल्डर ऑफलाइन भी काम करते हैं जैसे Mobirise, TemplateToster आदि। इन software की खासियत यह है की आपको किसी भी प्रकार की कोडिंग करने की जरुरत नही पड़ती है बल्कि आप dran and drop करके बड़ी आसानी सेडिजाईन बना सकते हैं।

4. किसी प्रोफेशनल के जरिये वेबसाइट बनवाना: यदि आपके पास समय की कमी है और यह काम खुद से नही करना चाहते हैं तो सबसे बढिया तरीका है की आप किसी प्रोफेशनल वेब डिज़ाइनर से यह काम करवा लें। इसमें आपके समय की बचत तो होगी ही इसके अलावा कुछ परेशानी आने पर आपको एक support भी मिलेगा।

आगे पढ़ें:


आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें नीचे कमेंट करके जरुर बताएं। इसके अलावा यदि यह जानकारी उपयोगी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें।

नमस्कार, मैं विवेक, WebInHindi का founder हूँ। इस ब्लॉग से आप वेब डिजाईन, वेब डेवलपमेंट से जुड़े जानकारियां और tutorials प्राप्त कर सकते हैं। अगर आपको हमारा यह ब्लॉग पसंद आये तो आप हमें social media पर follow कर हमारा सहयोग कर सकते हैं|

इस Post से सम्बंधित किसी भी तरह का प्रश्न पूछने या सुझाव देने के लिए नीचे comment कीजिये.
EmoticonEmoticon