Friday, 28 December 2018

डेटाबेस क्या है? इसका उपयोग कहाँ-कहाँ होता है? What is Database in Hindi?



What is database in Hindi

डेटाबेस क्या है? इसका उपयोग कौन करता है? आखिर इसकी जरुरत क्यों पड़ती है? इसके क्या फायदे हैं?

अगर आपके मन में ये सारे  सवाल आ रहें हैं तो आपको यह आर्टिकल जरुर पढना चाहिए।

कोई छोटा सा बिज़नस हो, सरकारी संस्था हो या मल्टीनेशनल कंपनी, कोई वेबसाइट हो या वेब एप्लीकेशन यहाँ तक की आप आपने मोबाइल में जो गेम खेलते हैं या कोई ऑनलाइन विडियो देखते हैं हर जगह डेटा ही डेटा हैं।

क्या आपने कभी सोचा है की इतने सारे डाटा को आखिर कहाँ रखा जाता है और उसे कैसे मैनेज किया जाता है?

ये सभी संभव हो पता है database की मदद से। आज हम इस आर्टिकल में इसी के बारे में चर्चा करने वाले हैं।

Data क्या है?

डेटाबेस को समझने से पहले यह जानना जरुरी है की डेटा क्या होता है। डेटा किसी भी information का एक छोटा सा हिस्सा होता है। यह किसी व्यक्ति, वस्तु या स्थान जुड़ा से हुआ कोई तथ्य (fact) हो सकता है।

जैसे: आपका नाम, आपकी उम्र, ऊंचाई, वजन, मोबाइल नंबर आदि आपसे जुड़े हुए कुछ डेटा हैं।

डेटा अलग-अलग कई प्रकार के फॉर्मेट में हो सकते हैं जैसे टेक्स्ट, नंबर, इमेज, फाइल आदि।

जब इन्हीं डेटा को किसी विशेष फॉर्म में प्रोसेस किया जाता है तो वह इनफार्मेशन बन जाता है।

डेटाबेस क्या है?

डेटाबेस कई सारे डेटा का एक समूह होता है। इन डेटा को डेटाबेस में एक व्यवस्थित तरीके से स्टोर किया जाता है ताकी जरुरत पड़ने पर इन्हें आसानी से access किया जा सके।

आपने Microsoft Office Excel का उपयोग किया होगा जहाँ पर हम डाटा स्टोर करने के लिए एक टेबल का उपयोग करते हैं जिसे हम अलग-अलग कई सारे कॉलम में डिवाइड करते हैं ताकि हमारा काम आसान हो सके।

ठीक इसी तरह डेटाबेस में भी डेटा को एक table में स्टोर किया जाता है जिसमे कई सारे columns और rows होते हैं जिनकी वजह से उन्हें access करना आसान हो जाता है।

एक डेटाबेस के अंदर ऐसे कई सारे tables हो सकते हैं।

इन्टरनेट पर मौजूद ऐसे कई सारे dynamic websites हैं जो database का उपयोग करते हैं।

उदाहरण के लिए आप फेसबुक को ही ले लीजिये, जिसपर यूजर के बारे में कई सारे data जैसे उनका नाम, मोबाइल नंबर, profile pictures, friends, messages, posts, status आदि सभी details सर्वर में उपस्थित database में ही स्टोर रहते हैं।

ठीक इसी तरह ई-कॉमर्स वेबसाइट जैसे Flipkart, Amazon आदि की हम बात करें तो वहां पर भी इसका उपयोग होता है। कस्टमर की जानकारी, product detail से लेकर हर एक जानकारी डेटाबेस में ही stored रहते हैं।

डेटाबेस में Field, Record, और Table क्या होते हैं?

किसी डेटाबेस के मुख्यतः तीन elements होते हैं:
  1. Field
  2. Record
  3. Table
Field: किसी डेटाबेस टेबल में Fields को columns में दर्शाया जाता है। साधारण शब्दों में कहें तो आप टेबल के कॉलम को फील्ड कह सकते हैं।

Example के लिए आप नीचे दिया गया student table देखें जिसमे Sid, Name, Class, Subject और Marks नाम के 5 fields हैं:
database table field example

Record: किसी टेबल के rows को हम records कह सकते हैं। उदाहरण के लिए नीचे दिया गया टेबल देखें जहाँ 4 records दिए गये हैं।
database-record

Table: Fields और Records से मिलकर एक complete table बनता है। इस टेबल पर कई सारे अलग-अलग लेकिन एक दुसरे से सम्बंधित data enter किये जाते हैं।

database table example

डेटाबेस का उपयोग कहाँ-कहाँ होता है?

इसके कई सारे examples हो सकते हैं और सभी के बारे में बता पाना काफी मुश्किल काम है। हम नीचे कुछ उदाहरण दे जहाँ पर डेटाबेस का उपयोग होता है:

ऑनलाइन विडियो स्ट्रीमिंग: चाहे आप Youtube पर विडियो देखते हों या Netflix पर अपनी मनपसंद वेब सीरीज देखते हों हर विडियो स्ट्रीमिंग साईट अपने डाटा को मैनेज करने के लिए डेटाबेस का उपयोग करता है जहाँ पर विडियो के details से लेकर देखने वाले users का भी जानकारी स्टोर होती है।

ऑनलाइन गेमिंग: क्या आपने PUBG गेम खेला है? अगर हाँ तो आपने देखा होगा की एक साथ कई millions user गेम खेल रहे होते हैं, क्या आपने सोचा है की इतने सारे users और उनके नाम से लेकर उनकी गेमिंग हिस्ट्री कैसे मैनेज की जाती होगी? जाहिर सी बात है यहाँ भी डेटाबेस का उपयोग हो रहा है और इसके बिना यह संभव नही है।
शेयर मार्केट: स्टॉक मार्केट में सैकड़ों कम्पनियाँ रजिस्टर्ड हैं और इनके शेयर हर सेकंड में ऊपर-नीचे होते रहते हैं। यहाँ हर दिन अरबों रूपए से भी ज्यादा के लेन-देन होते हैं। इन सबके हिसाब कहाँ रहते होंगे? यहाँ भी डेटाबेस के बिना काम नही चलने वाला।

आधार कार्ड: आपने भी आधार कार्ड बनवाया ही होगा इस दौरान आपका नाम, जन्म तिथि, माता-पिता का नाम, यहाँ तक की आपकी उँगलियों के निशान से लेकर आपके आँखों की रेटिना के निशान जैसे हर प्रकार की जानकारियां आपको देनी पड़ी होंगी। आपको क्या लगता है ये सारी जानकारियां कहाँ और कैसे रखी गयी होंगी। यहाँ भी डेटाबेस की जरुरत पडती है।

रेलवे रिजर्वेशन सिस्टम: टिकट बुकिंग से लेकर ट्रेन की लाइव स्टेटस की जानकारी किसी डेटाबेस में ही रखे जाते हैं।

फ्लाइट रिजर्वेशन: रेलवे की तरह यहाँ भी फ्लाइट की हर एक जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए DB की जरुरत पड़ती है।

बैंकिंग: हम रोजाना बैंकों के माध्यम से हजारों लेन-देन करते हैं और हम बिना बैंक जाए केवल एक मोबाइल एप्प से ऐसा कर सकते हैं। तो कैसे बैंकिंग इतनी आसान हो गई है कि हम घर बैठे पैसा भेज या प्राप्त कर सकते हैं। यह सब डेटाबेस की वजह से ही संभव है जो सभी बैंक लेनदेन का मैनेजमेंट करता है।

सोशल मीडिया: हम सभी फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस जैसे सोशल मीडिया वेबसाइट पर हैं ताकि हम अपने विचारों को साझा कर सकें और अपने दोस्तों के साथ जुड़ सकें। इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर लाखों उपयोगकर्ताओं ने साइन अप किया है। लेकिन उपयोगकर्ताओं की सभी जानकारीयां कैसे संग्रहीत की जाती है और हम अन्य लोगों से कैसे जुड़ पाते हैं, हाँ यह भी database का ही कमाल है।

ऑनलाइन शौपिंग वेबसाइट: इसका उदहारण तो हमने ऊपर ही दे दिया है। आप किसी ई-कॉमर्स साईट से कुछ भी खरीदें उसकी जानकारी सालों-साल तक सुरक्षित रहती है जिसे आप अपनी शौपिंग हिस्ट्री में कभी भी देख सकते हैं।

कॉलेज/ यूनिवर्सिटीज: स्टूडेंट से लेकर कर्मचारियों की हर एक जानकारियाँ डेटाबेस में ही रखे जाते हैं क्योंकि यह आसान और सुरक्षित है।

लाइब्रेरी मैनेजमेंट सिस्टम:  मेम्बरशिप डिटेल, किसने कौन सी बुक पढ़ी, किताबों की जानकारियाँ जैसी हर एक डाटा महत्वपूर्ण है जिन्हें DB पर सुरक्षित रखा जाता है।

हॉस्पिटल मैनेजमेंट सिस्टम: हॉस्पिटल के डॉक्टर्स और अन्य स्टाफ से लेकर मरीज और उनकी बिमारियों से जुड़े डाटा भी कहीं न कहीं सहेज कर रखे जाते हैं।

टेलीकम्यूनिकेशन: कोई भी दूरसंचार कंपनी बिना डेटाबेस सिस्टम के अपने व्यवसाय के बारे में सोच भी नहीं सकता। इन कंपनियों को कॉल डिटेल और मासिक बिल जैसी हर एक जानकारियां अपने पास रखनी होतीं हैं।
इन सबके अलावा और भी कई सारे जगह हो सकते हैं जहाँ database का उपयोग होता है। यदि आपको पता है तो हमें कमेंट करके जरुर बताएं।

डेटाबेस के क्या फायदे हैं?

चलिए अब जानते हैं की डेटाबेस का उपयोग क्यों करना चाहिए और इसके क्या फायदे हो सकते हैं:
  • डेटाबेस के जरिये कम स्पेस में भी ज्यादा डेटा स्टोर किया जा सकता है।
  • किसी भी जानकारी को आसानी से access किया जा सकता है।
  • नये data को insert करना, पुराने डेटा को edit करना और delete करना आसान है।
  • data को filter करना आसान है।
  • डाटा को अलग-अलग प्रकार से sort किया जा सकता है।
  • एक ही डेटाबेस को कई सारे applications या users एक साथ access कर सकते हैं।
  • किसी डेटाबेस टेबल से डाटा को import या export करना बहुत आसान है।
  • पेपर फाइल्स की तुलना में अधिक security provide करता है।
  • Redundancy को कम करता है।
  • Program और data को एक दुसरे से अलग रखता है।
  • बैकअप और रिकवरी जैसी सुविधाएँ प्रदान करता है।

DBMS (Database Management System) क्या है?


आपने यह तो समझ लिया की डेटाबेस क्या होता है और इसके क्या-क्या फायदे हैं लेकिन एक डेटाबेस काम कैसे करता है यह समझने के लिए आपको DBMS के बारे में जानना होगा।  

आपके मन में यह सवाल जरुर आ रहा होगा की डेटाबेस में डेटा कैसे स्टोर किया जाता होगा, उसे edit, update या delete कैसे किया जाता होगा?

दरअसल इस काम के लिए हमें एक सॉफ्टवेर के जरुरत पड़ती है जिसके जरिये हम database create कर सकते हैं उसको access करके उस पर कई प्रकार के operations perform कर सकते हैं।

डेटाबेस को manage करने के लिए ऐसे कई सारे software/programs होते हैं और इन्हें ही database management systems (DBMS) कहा जाता है।

DBMS एक interface provide करता है जिसके जरिये हम कई सारे काम कर पाते हैं जैसे:
  • Database create करना 
  • Table create करना 
  • Table में data insert करना 
  • Data retrive करना यानि access करना 
  • पहले से stored डाटा को update करना
  • डेटा delete करना आदि
इन सबके अलावा DBMS का काम data को secure रखना भी होता है ताकि unauthorized person उसे access न सके।

वैसे तो DBMS software कई सारे होते हैं लेकिन उनमे से सबसे ज्यादा उपयोग होने वाले program कुछ इस प्रकार हैं:
  • MySql  
  • Oracle 
  • SQL Server 
  • IBM DB2 
  • PostgreSQL 
  • SimpleDB
Database management के लिए इन सब के अलावा और भी कई सारे options हैं। कई सारे organizations तो ऐसे भी हैं जो अपने जरुरत के अनुसार खुद का सॉफ्टवेर बना कर उपयोग करते हैं।

डीबीएमएस के बारे में अधिक जानकारी के लिए पढ़ें: DBMS क्या है? (What is DBMS in Hindi?)

SQL क्या है?

SQL का full form Structured Query Language है। इसके S-Q-L या कभी-कभी See-Quel भी पढ़ा जाता है। यह एक प्रकार का लैंग्वेज है जिसका उपयोग database management में किया जाता है।

इस query language के जरिये ही डेटाबेस पर create, insert, search, update, delete जैसे operation perform किये जाते हैं।

जिस प्रकार से किसी programming language का syntax होता वैसे ही इसके भी syntax और rules होते हैं।

उदहारण के लिए हमारे पास student नाम का कोई टेबल है और हम ऐसे students का नाम देखना चाहते हैं जिनकी उम्र 20 साल से कम हो तब इसका syntax कुछ इस प्रकार होगा:

SELECT name From students WHERE age < 20

जहाँ पर "name" एक कॉलम का नाम है और "students" एक टेबल का नाम है।

ऐसे ही हर प्रकार के operation के लिए SQL में अलग-अलग code निर्धारित किये गये हैं।

सारांश - Database Kya hai?

  • डेटाबेस एक ऐसा फाइल है जहाँ कई सारे डेटा को एक व्यवस्थित तरीके रखा जाता है।
  • डेटा को tables पर रखा जाता है और एक डेटाबेस में कई सारे tables हो सकते हैं।
  • DBMS का full form "Database Management Systems" है।
  • डीबीएमएस एक प्रकार का software/program या tool होता है जिसके जरिये database को manage किया जाता है।
  • MySql, SQL Server, Oracle आदि डीबीएमएस सॉफ्टवेयर के कुछ उदाहरण हैं। 
  • SQL का full form "Structured Query Language" है।
  • इस language के माध्यम से कुछ कोड लिखे जाते हैं और डेटाबेस में insert, update, delete जैसे operations perform किये जाते हैं।


नमस्कार, मैं विवेक, WebInHindi का founder हूँ। इस ब्लॉग से आप वेब डिजाईन, वेब डेवलपमेंट से जुड़े जानकारियां और tutorials प्राप्त कर सकते हैं। अगर आपको हमारा यह ब्लॉग पसंद आये तो आप हमें social media पर follow कर हमारा सहयोग कर सकते हैं|

इस Post से सम्बंधित किसी भी तरह का प्रश्न पूछने या सुझाव देने के लिए नीचे comment कीजिये.
EmoticonEmoticon

और पढ़ें: