Monday, 10 December 2018

ब्लॉग क्या है? लोग blogging क्यों करते हैं? इसके क्या फायदे हैं?



blog kya hai

ब्लॉग क्या है? (What is a blog in Hindi?) इस सवाल का जवाब जानने से पहले चलिए इससे जुड़े कुछ दिलचस्प आंकड़ों के बारे में बात करते हैं:

Statista के अनुसार अक्टूबर 2011 तक दुनियाभर में लगभग 17 करोड़ 30 लाख blogs बनाये जा चुके थे

अब एक अनुमान के मुताबिक पूरे इन्टरनेट पर मौजूद blogs की संख्या 44 करोड़ से भी ज्यादा हो चुकी है

इन ब्लोग्स पर हर महीने लगभग 70 करोड़ से भी ज्यादा पोस्ट लिखे जाते हैं

हर महीने हम और आप जैसे लगभग 40 करोड़ से भी ज्यादा लोग इन ब्लोग्स को पढ़ते हैं, भले ही हमे इस बात की जानकारी न हो।

इन आंकड़ों से यह तो साबित होता है की आज इन्टरनेट की दुनिया में ब्लॉगिंग कितना महत्वपूर्ण है। अगर आप blogging के बारे में और आधिक जानकारी चाहते हैं तो इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें।

ब्लॉग क्या है? (What is a blog in Hindi?) ब्लॉग या वेबलॉग एक प्रकार का वेबसाइट है जिसे लोग एक डायरी की तरह उपयोग करते हैं इसपर वे अपना अनुभव, अपने विचार और जानकारियाँ टेक्स्ट, इमेज, विडियो आदि के माध्यम से लोगों के साथ साझा करते हैं।

ब्लॉग के कंटेंट को ब्लॉग पोस्ट कहा जाता है। और एक ब्लॉग में कई सारे ब्लॉग पोस्ट हो सकते हैं।

ब्लॉग पोस्ट को अपडेट करने की तिथि के अनुसार एक क्रम में दिखाया जाता है, इसमें नये पोस्ट पहले और पुराने पोस्ट बाद में दिखाए जाते हैं।

ब्लॉग को प्राइवेट भी रखा जा सकता है ताकि दूसरे लोग उसे देख न सकें। लेकिन इन्टरनेट पर मौजूद ज्यादातर ब्लोग्स सार्वजानिक होते हैं जिन्हें कोई भी पढ़ सकता है।

एक ब्लॉग को कोई एक व्यक्ति या एक टीम द्वारा चलाया जाता है।

अब तो बड़े-बड़े कॉर्पोरेट ब्लोगिंग की दुनिया में कदम रख चुके हैं और वे अपने ब्लॉग पर ढेर सारे कंटेंट शेयर करते हैं और इस काम के लिए वे कई लोगों की एक पूरी टीम रखते हैं।

ब्लॉग पोस्ट को सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस आदि पर शेयर किया जा सकता है।

ज्यादातर ब्लॉग में हर आर्टिकल (पोस्ट) के नीचे एक कमेंट सेक्शन होता है जिसमे कोई भी व्यक्ति उस कंटेंट के बारे में अपनी राय रख सकता है।

अब तो ब्लॉग्गिंग को एक बिज़नस की तरह देखा जाता है और लोग इसमें करियर भी बनाने लगे हैं।


ब्लॉग्गिंग का इतिहास सन 1994: Justin Hall नाम के एक अमेरिकन छात्र ने दुनिया का पहला ब्लॉग links.net बनाया जिसपर वे अपनी निजी जिंदगी से जुडी बातें लिखा करते थे इसे वे एक डायरी के रूप में उपयोग करते थे।

सन 1997: पहली बार "weblog " शब्द का उपयोग Jorn Barger ने किया जो की Robot Wisdom नाम के ब्लॉग के एडिटर थे।

सन 1998: एक कंप्यूटर प्रोग्रामर और वेबसाईट डेवलपर Bruce Ableson ने Open Diary बनाया। जिसपर यूजर डायरी लिख सकता था जिसपर प्राइवेसी सेटिंग के साथ पहला कमेंट सिस्टम भी जोड़ा गया था।

सन 1999: Peter Merholz ने weblog शब्द को और छोटा करके blog कर दिया और यहीं से ब्लॉग शब्द की शुरुआत हुई। इसी साल Pyra Labs ने पहला ब्लॉग प्लेटफार्म Blogger बनाया जिस लोग बिना कोडिंग किये ब्लॉग लिख सकते थे।

सन 2003: गूगल ने Blogger और Adsense को खरीद लिया। ठीक इसी साल Matt Mullenweg ने Wordpress को लांच किया।

सन 2007: Tumblr लांच हुआ जिसने मिक्रोब्लोग्गिंग के कांसेप्ट को जन्म दिया। अब लोग सिर्फ टेक्स्ट नही बल्कि इमेज, विडियो, GIFs आदि भी शेयर कर सकते थे। यहाँ तक की लोग SMS और ईमेल से भी पोस्ट पब्लिश कर सकते थे। यह दुनिया की सबसे तेज़ गति से बढने वाली सोशल प्लेटफार्म थी जिसे बाद में Yahoo ने 2013 में 1.1 बिलियन डॉलर में खरीद लिया।

सन 2007 से अब तक: अब ब्लोगिंग का दायरा बढ़ गया है यह एक डायरी से निकल कर लगभग हर बिज़नस का एक जरुरी हिस्सा सा बन गया है। अब फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप और इन्स्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म हैं जिन्हें ब्लॉग से जोड़कर अधिक से अधिक लोगों तक पहुचाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: वर्डप्रेस क्या है? इससे क्या-क्या बनाया जा सकता है? What is WordPress in Hindi?

लोग blogging क्यों करते हैं? ब्लॉग बनाने के क्या फायदे हैं? ब्लॉग बनाने के कई सारे फायदे होते हैं और अलग-अलग लोग अपने अलग-अलग फायदों के लिए ब्लॉग्गिंग करते हैं। कई लोगों का उद्देश्य इससे पैसे कमाना होता है तो कई लोग दूसरों की मदद करने के लिए ब्लॉग की शुरुआत करते हैं।

 ब्लॉग के फायदे अनेक हैं और लोगों के ब्लॉग बनाने के पीछे कई सारे उद्देश्य हो सकते हैं जैसे:
  • अपने विचारों को व्यक्त करने के लिए 
  • अपनी जानकारियों को साझा करने के लिए 
  • ऑनलाइन पोर्टफोलियो बना कर नया नौकरी पाने के लिए
  • ऑनलाइन पैसे कमाने के लिए 
  • नाम कमाने के लिए 
  • बिज़नस को आगे बढ़ाने के लिए
  • अपने क्षेत्र में महारत हासिल करने के लिए
  • यह आपको एक बेहतर लेखक बनाता है 
  • नेटवर्क बनाने के लिए 
  • दूसरों की मदद करने के लिए
  • दूसरों से सीखने के लिए
इसके सभी के अलावा ब्लॉग्गिंग के और क्या फायदे हो सकते हैं यदि आपको पता हो तो नीचे कमेन्ट करके जरुर बताएं।

Bloggers किसे कहते हैं? ये कितने प्रकार के होते हैं? ब्लॉग बनाने वाले और उसपर लिखने वाले को ब्लॉगर कहा जाता है। एक ब्लॉग को एक या एक से अधिक व्यक्ति भी चला सकते हैं।

ब्लॉगर कई प्रकार के होते हैं जिनको हमने मुख्यतः चार भागों में बाँटा है:

1. शौकिया ब्लॉगर:
ऐसे लोग जो अपने ब्लॉग पर अपनी हॉबी से जुडी जानकारियाँ शेयर करते हैं, शौकिया ब्लॉगर कहलाते हैं।

वे उस विषय पर बाते करते हैं जिस पर उनकी दिलचस्पी होती है। एक अच्छा हॉबी ब्लॉगर अपने कंटेंट और उसकी क्वालिटी पर ज्यादा ध्यान देता है न की पैसे पर। 

इस प्रकार की ब्लॉग्गिंग की खासियत यह है की लोग अपने ब्लॉग से ज्यादा समय तक जुड़े रहते हैं और ब्लॉग से पैसे नही मिलने पर भी निराश नही होते हैं क्योंकि वे अपने पसंदीदा विषय पर लिख रहे होते हैं।

2. पार्ट टाइम ब्लॉगर:  
नौकरी करने वाले लोग, कॉलेज या स्कूल जाने वाले छात्र भी अपने खाली समय में blog writing यानि ब्लॉग्गिंग कर सकते हैं। 

इसका फायदा यह है की समय का सदुपयोग हो जाता है और बदले में कुछ पैसे भी मिल जाते हैं। हालांकि शुरुआत में ब्लॉग से पैसे कमाना आसान नही होता इसके लिए आपको काफी समय लगेंगे। 

लेकिन यदि आपको तुरंत पैसे चाहिए तो आप अपने खाली समय में किसी दुसरे ब्लॉगर के लिए आर्टिकल लिखकर भी पैसे कमा सकते हैं।

3. फुल टाइम ब्लॉगर: 
यकीन मानिए कई लोग ऐसे भी हैं जिनकी आमदनी का मुख्य साधन ब्लॉग होता है। ऐसे  लोग अपना पूरा समय ब्लॉग्गिंग में लगाते हैं और अपने ऑडियंस के लिए लगातार क्वालिटी कंटेट बनाते रहते हैं।

उनकी साईट पर धीरे-धीरे ट्रैफिक बढ़ता जाता है और फिर वे विज्ञापनों और अलग-अलग तरीकों से पैसे कमाते हैं।

4. प्रोफेशनल ब्लॉगर: 
ये भी फुल टाइम ब्लॉगर होते हैं लेकिन ये किसी कॉर्पोरेट या संस्था के लिए काम करते हैं और इनका मुख्य काम ब्रांड को प्रमोट करना और बिज़नस के लिए नये कस्टमर या क्लाइंट्स लाना होता है।

वे ज्यादातर कंपनी के प्रोडक्ट या सर्विस से जुडी जानकारियां अपने ब्लॉग पर लिखते हैं और उसे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँचाने की कोशिश करते हैं।

एक ब्लॉगर का काम क्या होता है? एक ब्लॉगर को अपने ब्लॉग को सफलतापूर्वक चलाने के लिए सिर्फ आर्टिकल लिखना नही होता बल्कि और भी कई सारे काम करने होते हैं जैसे:
  • ब्लॉग के लिए योजना बनाना और लक्ष्य निर्धारित करना
  • आर्टिकल के लिए रिसर्च करना 
  • ब्लॉग पोस्ट के लिए सही इमेज का चयन करना जरुरत पड़े तो इमेज को एडिट करना
  • जरुरत पड़ने पर अपने ब्लॉग को डिजाईन करना 
  • साईट की स्पीड और अन्य समस्याओं को ठीक करना
  • अपने ब्लॉग के लिए फेसबुक और अन्य प्लेटफॉर्म्स पर फैन पेज बनाना 
  • ब्लॉग पोस्ट को अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर शेयर करना 
  • अपने टॉप ब्लॉग पोस्ट्स को optimize करना 
  • कमेंट्स का जवाब देना और स्पैम कमेंट को हटाना 
  • दूसरों के ब्लॉग को पढना और वहाँ से सीखना 
  • गेस्ट पोस्टिंग करना यानि दूसरों के ब्लॉग पर पोस्ट लिखना 
  • अन्य ब्लोगर्स के साथ सम्बन्ध स्थापित करना और एक दुसरे को सपोर्ट करना 
  • विज्ञापन, sponsorships और अन्य तरीकों से अपने ब्लॉग को monetize करने के रास्ते ढूंढना
  • न्यूज़लेटर सेट करना 
  • ट्रैफिक और अन्य आंकड़ों का विश्लेषण करना 
  • अपने ऑडियंस के संपर्क में रहना 
  • अधिक से अधिक लोगों तक अपने ब्लॉग पहुँचाने के लिए योजनायें बनाना
जिस प्रकार से एक बिज़नस को आगे बढाने के लिए कई सारे काम करने पड़ते हैं ठीक उसी तरह एक ब्लॉग को सफल बनाने के लिए भी काफी मेहनत करनी पड़ती है।

ब्लॉग कितने प्रकार के होते हैं? कौन से विषय पर ब्लॉग लिखा जाता है? इस दुनिया में लाखों ब्लोग्स हैं और ऐसे कई सारे विषय हैं जिनपर रोजाना कुछ न कुछ लिखा जा रहा है। लेकिन ब्लॉग शुरू करने के समय कई लोगों में इस बात को लेकर चिंता रहती है वे किस प्रकार का ब्लॉग बनायें और उस पर किस प्रकार के कंटेंट पोस्ट करें। सबसे पहले हमें एक विषय चुनना होता है जिसे niche भी कहा जाता है और फिर उससे सम्बंधित जानकारियाँ पोस्ट की जातीं हैं।

अगर चाहें तो हम एक से अधिक विषय पर भी लिख सकते हैं।

ब्लॉग कई प्रकार के होते हैं और इसे विषय के आधार पर हम कई सारे भागों में बाँट सकते हैं जैसे:
  • फैशन 
  • फ़ूड
  • फिटनेस
  • समाचार
  • लाइफ स्टाइल 
  • खेल-कूद
  • फिल्म
  • गेमिंग
  • फाइनेंस
  • राजनीती 
  • बिज़नस
  • पर्सनल 
  • ऑटोमोबाइल
  • पालतू जानवर 
यदि आप भी ब्लॉग बनाने की सोच रहें हैं तो हमारी यही सलाह होगी की आप अपने मनपसंद टॉपिक पर लिखना शुरू करें। आप चाहें तो एक से अधिक विषय पर लिख सकते हैं।

क्या ब्लॉग से पैसे कमा सकते हैं? हाँ! आप ब्लॉग्गिंग करके पैसे कमा सकते हैं और कई सारे लोग कमा भी रहे हैं।

लेकिन जिस प्रकार से एक बिज़नस से पैसे कमाने के लिए प्लानिंग और मेहनत की जरुरत होती है ठीक वैसे ही एक ब्लॉग से अच्छी कमाई करने के लिए भी योजना बनाई जाती है और लगातार मेहनत किया जाता है।

ब्लॉग को monetize करने के लिए कई सारे तरीके होते हैं जिनमे से सबसे ज्यादा उपयोग होने वाले तरीके कुछ इस प्रकार हैं:
  • विज्ञापन
  • एफिलिएट मार्केटिंग
  • खुद का सामान या सर्विस बेचना 
  • डोनेशन से
  • खुद के बिज़नस का प्रचार करके
इसके अलावा आजकल लोग CPA marketing के जरिये भी online earning कर रहे हैं, इसके लिए blogger को CPA affiliate की site पर register करना होता है जहाँ से मिलने वाले advertisement को अपने साईट पर लगाना होता है और इसके जरिये product सेल होने पर या lead generate करने पर पैसे मिलते हैं। ऐसी ही एक साईट है dr.cash जो की एक CPA network है और beauty और health (nutra vertical) से जुड़े प्रोडक्ट की एफिलिएट मार्केटिंग करती है।

ब्लॉग्गिंग करके पैसे कमाने के लिए ब्लॉग पर अच्छी ट्रैफिक की जरुरत पड़ती है जिसके लिए एक ब्लॉगर को काफी मेहनत करनी पड़ती है।

कौन कर सकता है blogging? ब्लॉग्गिंग करने के लिए किसी विशेष योग्यता की जरुरत नही पड़ती है। इसे कोई भी किसी भी वर्ग का व्यक्ति समय निकाल कर कर सकता है जैसे:
  • स्कूल स्टूडेंट 
  • कॉलेज स्टूडेंट
  • गृहणी (हाउस वाइफ)
  • जॉब करने वाला व्यक्ति 
हर वह व्यक्ति ब्लोगिंग कर सकता है जिसके पास लिखने के लिए कुछ है। बस उसे इन्टरनेट और ब्लोगिंग के बारे में कुछ जानकारी होनी चाहिए।

ब्लॉग बनाने के लिए क्या चाहिए? शुरू करने से पहले आपको यह तय करना होगा की आप किस विषय पर आर्टिकल या कंटेंट बना सकते हैं। इसके बाद आपको एक प्लेटफार्म तैयार करना होगा जहाँ पर आप अपने आर्टिकल को पोस्ट कर सकें।

इस काम के लिए आपको दो चीजों की जरूरत पड़ेगी:
  1. डोमेन नेम
  2. वेब होस्टिंग
डोमेन नेम का मतलब एक वेब एड्रेस जिसके जरिये आपके ब्लॉग को देखा जा सके जैसे आप इस ब्लॉग को webinhindi.com पर देख पा रहे हैं ठीक वैसे ही आपको एक एड्रेस खरीदना होगा जिसे ही डोमेन नाम कहा जाता है।

इसके लिए आपको 99 रूपये से 1500 रुपये लग सकते हैं। ऐसी कई सारी websites हैं जहाँ से आप डोमेन खरीद सकते हैं जैसे:
  • Godaddy
  • Bigrock
  • Namecheap
इसके बाद आपको वेब होस्टिंग की जरुरत पड़ेगी जिससे आपको इन्टरनेट पर एक स्पेस मिलेगा जहाँ आप अपने कंटेंट अपलोड कर पाएंगे। 

होस्टिंग के लिए आपको मासिक या सालाना कुछ पैसे चुकाने पड़ते हैं जो निर्भर करता है की आप कौनसा होस्टिंग प्रोवाइडर उपयोग करते हैं।

आपको इन्टरनेट पर कई सारे होस्टिंग प्रोवाइडर मिलेंगे जैसे:
  • Bluehost
  • Godaddy
  • Hostgator 
अगर आप होस्टिंग के लिए पैसे खर्च नही करना चाहते तो आप Blogger.com का उपयोग कर सकते हैं जो की गूगल का ही एक मुफ्त ब्लॉगिंग प्लेटफार्म है। ज्यादा जानकारी के लिए यह पढ़ें: Blogger क्या है? इससे फ्री ब्लॉग कैसे बनाये?



उम्मीद है आपको ब्लोगिंग के बारे में यह जानकारी पसंद आई होगी। यदि आप कोई सवाल पूछना चाहते हैं या सुझाव देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी राय जरुर रखें।

नमस्कार, मैं विवेक, WebInHindi का founder हूँ। इस ब्लॉग से आप वेब डिजाईन, वेब डेवलपमेंट से जुड़े जानकारियां और tutorials प्राप्त कर सकते हैं। अगर आपको हमारा यह ब्लॉग पसंद आये तो आप हमें social media पर follow कर हमारा सहयोग कर सकते हैं|

3 comments

Dhanyawaad blog kya hai? ye pata chal gaya ye post mast hai



https://www.hindidroidblog.com/

mujhe blog ka itihas janna tha, apne bahut hi sahi tarike se btaya hai thanks you!!!

इस Post से सम्बंधित किसी भी तरह का प्रश्न पूछने या सुझाव देने के लिए नीचे comment कीजिये.
EmoticonEmoticon